कोई दीवाना कहता है (कविता) | कुमार विश्वास | Shayari Sad

 कोई दीवाना कहता है (कविता) | कुमार विश्वास | Shayari Sad

Mero Pyaare mitro aaj aap is post main padege dr. kumar vishwas famous poetry koi deewana kehta hai lyrics dr. kumar vishwas


koi deewana kehta hai lyrics

koi deewana kehta hai lyrics


Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hain

magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hain

Main tujhse dur kaisa hu,tu mujhse dur kaisi hain

Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hain


Ke mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahaani hain
kabhi kabira deewana tha kabhi meera diwaani hain
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aasu hain
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain



Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta
Yeh aasu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le
Jo mera ho nahi paaya woh tera ho nahi sakta

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hain

magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hain



Bhramar koi kumudni par machal baitha toh hungama
Humare dil mein koi khwaab pal baitha toh hungama
Abhi tak doob kar sunte the sab kissa mohobbat ka
Main kisse ko hakikat mein badal baitha toh hungama



Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hain

magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hain





koi deewana kehta hai lyrics In Hindi



कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है
मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है
कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता
भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा
कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है






कोई दीवाना कहता है (कविता) | कुमार विश्वास | Shayari Sad  कोई दीवाना कहता है (कविता) | कुमार विश्वास | Shayari Sad Reviewed by Rahul on September 19, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.